• Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Ipl
  • IPL 2021: Eoin Morgan Andre Russel Sunil Narine Shubman Gill | SWOT Analysis Of Kolkata Knight Riders Squad

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चेन्नई11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दो बार की IPL चैम्पियन कोलकाता नाइटराइडर्स इस साल 7 साल के सूखे को खत्म कर ट्रॉफी अपने नाम करना चाहेगी। टीम ने पिछली बार 2014 में खिताब जीता था। टीम 13वें सीजन के मुकाबले इस सीजन काफी बैलेंस्ड नजर आ रही है। स्क्वॉड में आंद्रे रसेल, सुनील नरेन और शाकिब अल हसन समेत 7 ऑलराउंडर्स की मौजूदगी से टीम को मजबूती मिली है।

हालांकि टीम के स्पिनर्स की फिटनेस और फॉर्म परेशानी का सबब बन सकती है। हरभजन सिंह 40 साल के हो चुके हैं। वहीं, कुलदीप यादव फिलहाल फॉर्म में नहीं हैं। वरुण चक्रवर्ती की फिटनेस पर भी हमेशा से सवाल उठते रहे हैं, लेकिन इसके बावजूद वे पिछले सीजन में टीम के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिनर थे। गंभीर के जाने के बाद से टीम कुछ खास परफॉर्म नहीं कर पाई है।

पिछले सीजन में टीम को ओपनिंग कॉम्बिनेशन, मिडिल ऑर्डर और फिनिशर के मामले में जूझना पड़ा था। इस बार टीम को अपना पहला मैच 11 अप्रैल को चेन्नई के खिलाफ खेलना है। बीच सीजन में दिनेश कार्तिक को हटाकर इंग्लैंड के ओएन मोर्गन को कप्तान बनाया गया। इसके बावजूद वे टीम को प्लेऑफ में नहीं पहुंचा सके। जानते हैं KKR टीम की स्ट्रेंथ (Strength), कमजोरियों (Weaknesses​)​​​​​​, अवसरों (Opportunities) और उसके खतरों (Threats) के बारे में…

स्ट्रेंथ-1: ओएन मोर्गन जैसा कप्तान
मोर्गन पहली बार IPL में फुल टाइम कैप्टन के तौर पर नजर आएंगे। उन्हें मौजूदा समय में व्हाइट बॉल फॉर्मेट के सबसे चतुर कप्तानों में से एक माना जाता है। उन्होंने अपनी कप्तानी में इंग्लैंड को 2019 वनडे वर्ल्ड कप जिताया था। पिछले सीजन में KKR के शुरुआती 6 मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद उन्हें कप्तानी सौंपी गई। मोर्गन ने 13वें सीजन में 14 पारियों में 41.80 की औसत से 418 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने 24 छक्के लगाए।

KKR ने इस साल ऑक्शन में सूझबूझ वाले फैसले लिए। राजस्थान ने जितना पैसा खर्च कर क्रिस मॉरिस को जोड़ा, उससे करीब आधी रकम में KKR ने 8 शानदार खिलाड़ी खरीद लिए। इनमें शाकिब अल हसन और बेन कटिंग जैसे ऑलराउंडर, करुण नायर जैसा बैट्समैन और हरभजन सिंह जैसा अनुभवी स्पिनर शामिल है।

स्ट्रेंथ-2: बैटिंग ऑर्डर में गहराई
शाकिब के आने से टीम के बैटिंग में गहराई आई है। टॉप ऑर्डर में शुभमन गिल और राहुल त्रिपाठी जैसे बल्लेबाज हैं। इसके बाद नीतीश राणा, दिनेश कार्तिक, मोर्गन और शाकिब के रहने से मिडिल ऑर्डर काफी मजबूत है। लोअर ऑर्डर में रसेल और नरेन भी आक्रमक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। ऐसी बैटिंग लाइन अप किसी भी टीम के लिए परेशानी खड़ी कर सकती है।

स्ट्रेंथ-3: 145+ की स्पीड से बॉलिंग करने वाले 3 गेंदबाज
KKR के पास प्रसिद्ध कृष्णा जैसा तेज गेंदबाज भी है। कृष्णा ने इंग्लैंड के खिलाफ वनडे में इंटरनेशनल डेब्यू में 4 विकेट लेकर इतिहास रच दिया था। वे डेब्यू वनडे में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज हैं।

बैकअप के तौर पर टीम के पास पैट कमिंस और लॉकी फर्ग्यूसन जैसे ऑप्शन भी मौजूद हैं। यह तीनों गेंदबाज 145+ की स्पीड से गेंद फेंक सकते हैं। फर्ग्यूसन ने पिछले सीजन में 5 मैच में 6 विकेट लिए थे। उन्होंने हैदराबाद के खिलाफ सुपर ओवर में 2 विकेट लेकर टीम को जीत दिलाई थी।

प्रैक्टिस सेशन के दौरान KKR के कोच ब्रैंडन मैकुलम और कप्तान ओएन मोर्गन।

प्रैक्टिस सेशन के दौरान KKR के कोच ब्रैंडन मैकुलम और कप्तान ओएन मोर्गन।

कमजोरी

स्पिन डिपार्टमेंट में फॉर्म और फिटनेस
कोलकाता को चेन्नई में 5 मैच खेलने हैं। ऐसे में इस ट्रैक पर स्पिनर्स का रोल अहम होने वाला है। हरभजन अब 40 साल के हो चुके हैं। पिछले सीजन में वे नहीं खेले थे। जबकि, 2019 में उन्हें CSK ने गिने-चुने मैच में टीम में जगह दी थी। ऐसे में 2 साल बाद उन्हें क्रिकेटिंग फॉर्म में वापस आने में दिक्कत हो सकती है। साथ ही इस उम्र में फिटनेस बनाए रखना भी चुनौती होगा।

वरुण भी पिछले कुछ समय से फिटनेस को लेकर चर्चा में है। IPL 2020 में अच्छे प्रदर्शन के बाद उन्हें ऑस्ट्रेलिया और फिर इंग्लैंड सीरीज में भारतीय स्क्वॉड में शामिल किया गया। पर दोनों बार वे फिटनेस टेस्ट पास नहीं कर पाने के कारण बाहर हो गए। ऐसे में उन्हें एक बार फिर जीरो से शुरुआत करनी होगी।

कुलदीप पिछले कुछ समय से आउट ऑफ फॉर्म हैं। इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में उनकी जमकर धुनाई हुई थी। बॉलिंग एक्शन पर विवाद के बाद से नरेन कुछ खास फॉर्म में नहीं दिखे हैं। ऐसे में स्पिन डिपार्टमेंट कोलकाता के लिए परेशानी बन सकती है।

अवसर

  • कार्तिक ने बैटिंग पर फोकस करने के लिए पिछले सीजन में कप्तानी छोड़ी थी। हालांकि इसके बाद भी वे कुछ खास फॉर्म में नहीं दिखे। ऐसे में इस सीजन में वे अपने इस फैसले को सही साबित करने की कोशिश करेंगे।
  • शाकिब और हरभजन के पास दिल्ली और चेन्नई के स्लो ट्रैक पर खुद को साबित करने का मौका होगा। भज्जी को इस साल ऑक्शन के पहले राउंड में किसी टीम ने नहीं खरीदा था। दूसरे राउंड में उन्हें KKR ने 2 करोड़ के बेस प्राइस पर टीम में शामिल किया। हालांकि भज्जी ने IPL से पहले कहा था कि उन्हें किसी को कुछ साबित नहीं करना है।
  • KKR ने इस बार 2 दिलचस्प भारतीय अनकैप्ड खिलाड़ियों को साइन किया। इसमें वैंकटेश अय्यर और वैभव अरोड़ा शामिल हैं। यह अपने प्रदर्शन से फ्रेंचाइजी का दिल जीतना चाहेंगे। बाएं हाथ के बल्लेबाज अय्यर मध्य प्रदेश से हैं। उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में पंजाब के खिलाफ 146 गेंदों पर 198 रन बनाए थे। वहीं, हिमाचल के मीडियम पेस बॉलर अरोड़ा ने विजय हजारे ट्रॉफी में अपने डेब्यू मैच में महाराष्ट्र के खिलाफ हैट्रिक ली थी।

खतरा

  • KKR को पावरप्ले में शुभमन से अच्छी ओपनिंग की उम्मीद होगी। पिछले सीजन में उन्होंने रन स्कोर करने के लिए शुरुआत में काफी गेंद खेली थीं। इससे मिडिल ऑर्डर पर काफी दबाव पड़ा था।
  • मोर्गन चाहेंगे कि उन्हें सीजन की शुरुआत में ही एक विनिंग कॉम्बिनेशन मिले। पिछले सीजन में टीम ने लगभग सभी मैच में बदलाव किए थे। इससे टीम के मोराल को नुकसान पहुंचा था।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here