Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबईकुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक

सनसिटी ग्राउंड में जो सेट तैयार हो रहा था, उसमें एक प्लेन क्रेश का सीन शूट होना था।

अभिनेता और निर्माता अजय देवगन के प्रोडक्शन हाउस से जुड़े 12 स्टाफ के खिलाफ कोविड-19 गाइडलाइन के उल्लंघन का केस दर्ज हुआ है। ये क्रू मेंबर वसई के सनसिटी इलाके में फिल्म ‘मेडे’ के सेट का निर्माण कर रहे थे। इनपर भीड़ जमा करने और लॉकडाउन के नियम तोड़ने का आरोप है। जानकारी के मुताबिक, सनसिटी ग्राउंड में जो सेट तैयार हो रहा था, उसमें एक प्लेन क्रेश का सीन शूट होना था। हालांकि, फिल्म क्रू का दावा है कि उनके उन्होंने वसई तहसीलदार से जरुरी अनुमति ली है।

मानिकपुर पुलिस स्टेशन में अभिनेता के स्टाफ से जुड़े जिन लोगों पर केस दर्ज हुआ है, उनमें गार्डेनिया स्टूडियो के लोकेशन मैनेजर दानिश जैसवाल(35) भी शामिल है। मानिकपुर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर भाऊसाहेब अहिरे ने बताया कि उन्होंने गश्त के दौरान कई लोगों को COVID-19 नियमों की धज्जियां उड़ाते और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम तोड़ते हुए पकड़ा।

मानिकपुर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर भाऊसाहेब अहिरे के मुताबिक, जब उनकी टीम ने छापा मारा एक भी स्टाफ ने मास्क नहीं पहना था।

मानिकपुर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर भाऊसाहेब अहिरे के मुताबिक, जब उनकी टीम ने छापा मारा एक भी स्टाफ ने मास्क नहीं पहना था।

स्टाफ में से किसी ने मास्क नहीं पहना था
अहिरे ने आगे कि सनसिटी ग्राउंड पर बनने वाले सेट के पास 15 से ज्यादा लोग मौजूद थे। इनमें से एक-दो को छोड़ किसी ने मास्क नहीं पहना था। जिन्होंने मास्क पहना भी था वह उनकी ठुड्डी से नीचे खिसक गया था। नियम तोड़ते देख हमने लोकेशन मैनेजर जैसवाल को बुलाया। उन्होंने बताया कि उनके पास तहसीलदार के यहां से शूटिंग की परमिशन ली है। उन्होंने बताया कि अजय देवगन यहां शूटिंग के लिए आ रहे हैं।

इन धाराओं में दर्ज हुआ केस
इसके बाद हमने IPC की धारा 188(सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का उल्लंघन करना) और 269 (जीवन के लिए खतरनाक किसी भी बीमारी के संक्रमण फैलाने का आरोप) के तहत मामला दर्ज किया गया है। हमने उनसे सेट हटाने के लिए भी कहा है।

आज भी यह स्टाफ ग्राउंड पर मौजूद है। हालांकि, अब सभी मास्क लगाकर काम कर रहे हैं।

आज भी यह स्टाफ ग्राउंड पर मौजूद है। हालांकि, अब सभी मास्क लगाकर काम कर रहे हैं।

विवाद बढ़ने के बाद वसई के तहसीलदार उज्जवल भगत ने बताया कि हमने निर्धारित शुल्क लेकर केवल ग्राउंड को किराए पर दिया था। शूटिंग या सेट निर्माण की कोई मंजूरी नहीं दी गई है। इसके लिए उन्हें लोकल पुलिस और नगर निगम से अनुमति लेनी चाहिए थी। हालांकि, फिल्म ‘मेडे’ के प्रवक्ता ने कहा है,’हमें फिलहाल किसी के खिलाफ केस दर्ज होने की जानकारी नहीं मिली है। हमारी शूटिंग तय समय पर होगी।’

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here