Photo:FILE

पहले वैश्विक विश्वविद्यालयों के मेले का आयोजन करेगा ‘फिक्की अराइज’


नई दिल्ली: फिक्की एलायंस फॉर री-इमेजिनिंग स्कूल एजुकेशन (अराइज) 31 मार्च की शाम 5:30 से 8:30 बजे के बीच अपने पहले वैश्विक विश्वविद्यालयों के मेले का आयोजन करने जा रहा है, जिसका नाम ‘फिक्की अराइज इंटरनेशनल यूनी फेयर’ है। चूंकि उच्च शिक्षा मानव विकास को बढ़ावा देने के साथ-साथ किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, इसलिए फिक्की अराइज ने इस विश्वविद्यालय मेले (यूनिवर्सिटी फेयर) के साथ छात्रों को व्यापक और विविध उच्च शिक्षा सीखने के अवसरों के साथ ही आपसी वार्ता के अवसर प्रदान करने की पहल की है।

मेले में छात्रों को संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, जर्मनी, फ्रांस, सिंगापुर भारत और अन्य शीर्ष स्थलों से शीर्ष अंतराष्र्ट्ीय विश्वविद्यालयों/कॉलेजों में से अपना पंसदीदा संस्थान चुनने का अवसर मिलेगा।

90 विश्वविद्यालय पहले से ही पंजीकृत हो चुके हैं और इनमें इंपीरियल कॉलेज लंदन (ब्रिटेन), वाटरलू विश्वविद्यालय (कनाडा), करिया विश्वविद्यालय (भारत), प्लाकशा विश्वविद्यालय (भारत), एरिजोना विश्वविद्यालय (अमेरिका), फैंर कलिन विश्वविद्यालय (स्विट्जरलैंड), कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ आर्ट्स (अमेरिका), किंग्स कॉलेज (लंदन), पेन स्टेट यूनिवर्सिटी (अमेरिका), यूसीएल (ब्रिटेन) और इस तरह के अन्य प्रसिद्ध संस्थान शामिल हैं।

फिक्की अराइज के चेयरमैन और द हेरिटेज ग्रुप ऑफ स्कूल्स के सह-संस्थापक और निदेशक मनित जैन ने इस पहले मेले की शुरुआत के अवसर पर एक बयान में कहा, “उच्च शिक्षा के महत्व को देखते हुए एनईपी की शुरुआत के साथ हमने एक ऐसा प्लेटफॉर्म बनाने की जरूरत महसूस की, जहां देशभर के छात्रों को दुनिया के कुछ बेहतरीन विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के साथ बातचीत करने का अवसर प्रदान किया जा सके। यह हमारा पहला संस्करण (फस्र्ट एडिशन) होने के साथ ही हम इसके सफल होने और भविष्य में इसे नई ऊंचाइयों पर ले जाने की उम्मीद करते हैं।” यह मेला छात्रों, अभिभावकों, काउंसलर, शिक्षकों और प्रिंसिपलों के हाई स्कूल कम्युनिटी के लिए खुला है। वह दुनियाभर के शीर्ष विश्वविद्यालयों के साथ एक सीधे इंटरफेस के जरिए उच्च शिक्षा के लिए विभिन्न विकल्पों के साथ भाग ले सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here