कासगंज में काली नदी का वह इलाका जहां मोती सिंह को पुलिस ने ढेर किया। इसी इलाके में उसके चचेरे भाई एलकार को 10 फरवरी को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था।

कासगंज में सिपाही की पीट-पीटकर हत्या करने वाला मुख्य आरोपी मोती सिंह रविवार तड़के 3.30 बजे एनकाउंटर में मारा गया। मोती पर एक लाख रुपए का इनाम था। पुलिस ने उसके पास से वह पिस्टल भी बरामद कर ली है, जो उसने SHO अशोक से मारपीट के के दौरान छीनी थी। कासगंज के एसपी मनोज कुमार सोनकर ने बताया कि मोती और पुलिस के बीच करतला रोड पर काली नदी के पास मुठभेड़ हुई।

गोली लगने के बाद उसे कासगंज जिला अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 9 फरवरी को सिपाही देवेंद्र सिंह और दारोगा अशोक एक नोटिस चिपकाने कासगंज के नगला धीमर गांव गए थे। यहां मोती सिंह ने अपने साथियों के साथ मिलकर दोनों के साथ मारपीट की थी। घटना में देवेंद्र की मौत हो गई थी और अशोक घायल हो गए थे।

मोती इलाके में कटरी किंग के नाम से जाना जाता था

पुलिस ने मोती पर एक लाख का इनाम रखा था। इलाके में इस हिस्ट्रीशीटर का भय था। लोग उसे कटरी किंग कहते थे। पुलिस ने मारपीट की घटना के बाद अगले ही दिन मोती के भाई एलकार को एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। एलकार मोती का चचेरा भाई था। उसका एनकाउंटर भी 10 फरवरी को सुबह तड़के तीन बजे काली नदी के किनारे किया गया था। पुलिस इस केस में मोती की मां सियारानी, नवाब और गुड्डू को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।​​​​​​​

सर्चिंग के दौरान अर्धनग्न हालत में घायल मिले थे SHO

नगला धीमर गांव अवैध शराब के कारोबार के लिए कुख्यात है। यहां अक्सर पुलिस कार्रवाई होती रहती है। नगला धीमर गांव अवैध शराब के कारोबार के लिए कुख्यात है। यहां अक्सर पुलिस कार्रवाई होती रहती है। घटना के दिन मोती और उसके साथियों ने पहले पुलिसवालों को गांव में पीटा, फिर उन्हें बंधक बनाकर अनजान जगह पर ले गए थे। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। सर्चिंग के दौरान खेत में SI अर्धनग्न हालत में घायल मिले थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here