तारा गांधी ने शनिवार को गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों से मुलाकात की। उनके पैर छूते हुए भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत।

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन के शनिवार को 80 दिन पूरे हो गए। इस बीच गाजीपुर बॉर्डर पर लगातार हलचल बनी हुई है। शनिवार को महात्मा गांधी की पोती तारा गांधी ने गाजीपुर बॉर्डर पहुंचकर किसान आंदोलन का समर्थन किया। उन्होंने किसानों से कहा कि आपका आंदोलन बहुत सच्चा है, यह अपने आप पता चलता है। मैं सच के साथ हूं और हमेशा रहूंगी।

किसान नेता टिकैत बोले- मांगें पूरी होने तक डटे रहेंगे
उधर, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने एक बार फिर कहा कि केंद्र सरकार के विवादित कृषि कानूनों का विरोध तब तक तेज होता रहेगा जब तक कि किसानों की मांगें नहीं मानी जातीं। टिकैत ने यह भी कहा कि गर्मियों में धरना स्थलों पर टिकने के लिए किसानों को AC और कूलर की जरूरत पड़ेगी। ऐसे में सरकार को बिजली कनेक्शन देने चाहिए नहीं तो हमें जेनरेटर लगाने पड़ेंगे। जिस तरह लोग हमें पानी उपलब्ध करवा रहे हैं, उसी तरह जेनरेटर के लिए डीजल भी मुहैया करवा देंगे।

‘चुनाव वाले इलाकों में अपने सवालों की लिस्ट बांटेंगे’
टिकैत ने कहा कि सरकार आंदोलन को लंबा खींचना चाहती है, लेकिन किसान भी लंबे समय तक टिकने के लिए तैयार हैं। हम 8 से 10 प्रश्न तैयार कर लोगों में बांटेंगे। जहां भी कोई पार्टी चुनाव के लिए कैंपेन करेगी, वहां हम अपने प्रश्नों की लिस्ट लोगों में बांटेंगे। इस सिलसिले में जल्द हम महाराष्ट्र, गुजरात और बंगाल में मीटिंग करेंगे।

किसानों के मुद्दे पर खट्टर ने अमित शाह से मुलाकात की
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने शनिवार को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर किसानों के मुद्दे पर चर्चा की। मीटिंग के बाद खट्टर ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए बताया कि हरियाणा सरकार पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने वाले प्रदर्शनकारियों की संपत्तियों से भरपाई के लिए कड़ा कानून लाने पर विचार कर रही है।

दिल्ली पुलिस दीप सिद्धू को लाल किला लेकर गई
26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा की जांच के सिलसिले में दिल्ली पुलिस शनिवार को आरोपी दीप सिद्धू और इकबाल सिंह को शनिवार को लाल किले लेकर गई। पुलिस दोनों को उन रास्तों पर लेकर गई जहां-जहां से उपद्रवी गुजरे थे। दीप सिद्धू और इकबाल सिंह पर लाल किले में उपद्रवियों को भड़काने का आरोप है।

26 जनवरी को ट्रैक्टर मार्च में शामिल हुए 16 किसान लापता
संयुक्त किसान मोर्चा ने आरोप लगाया है कि किसानों को फर्जी मामलों में फंसाया जा रहा है। उनका उत्पीड़न किया जा रहा है। किसान नेताओं ने दावा किया कि 26 जनवरी के ट्रैक्टर मार्च में शामिल 16 किसान अब भी लापता हैं। जबकि करीब 122 किसानों को गिरफ्तार किया जा चुका है। सिंघु बॉर्डर पर मीडिया से चर्चा में किसान नेता कुलदीप सिंह ने लाल किला हिंसा को साजिश बताया। उन्होंने इसे बेनकाब करने के लिए पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट या हाईकोर्ट के रिटायर जज से जांच कराने की मांग की।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here