स्टूडेंट पर असाइनमेंट का बोझ कम करने के लिहाज से माध्यमिक शिक्षा मंडल ने फैसला लिया है। सिंबॉलिक फोटो।

  • 10वीं की 15 अप्रैल और 12वीं की परीक्षा 3 मई से होनी है आयोजित, 9वीं और 11वीं की परीक्षा का जिम्मा स्कूलों पर
  • माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जारी किए निर्देश, 70 और 30 के रेश्यो में बंटे थ्योरी और असाइनमेंट के माक्स

छत्तीसगढ़ के स्कूली स्टूडेंट को CG एजुकेशन बोर्ड ने राहत दी है। अब तक 6 विषयों के 4 असाइनमेंट जमा करने होते थे। मगर अब स्टूडेंट्स 3 असाइनमेंट जमा कर सकेंगे। नियमों में बदलाव के आदेश शुक्रवार की शाम माध्यमिक शिक्षा की तरफ से जारी कर दिए गए। यह भी कहा गया कि ऐसा कोविड की वजह से स्कूल ना खुलने के कारण किया गया है।

नंबरों का गणित समझें
दसवीं में सैद्धांतिक के लिए 75 नंबर और प्रैक्टिकल या प्रोजेक्ट के लिए 25 नंबर है। बारहवीं के किसी-किसी विषय में यह नंबर 80 व 20 में भी बंटे हैं। प्रैक्टिकल व प्रोजेक्ट वर्क के नंबर पहले की तरह ही रहेंगे। इसमें किसी तरह के बदलाव नहीं होंगे। लेकिन सैद्धांतिक के नंबर में इस बार असाइनमेंट के नंबर भी जोड़े जाएंगे। जितने नंबर के लिए थ्योरी पेपर होगा उसके 30 प्रतिशत नंबर असाइनमेंट से रहेंगे। इन अंकों को जोड़कर रिजल्ट तैयार होगा।

10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स के लिए
माध्यमिक शिक्षा मंडल की तरफ से जारी निर्देशों के मुताबिक दसवीं कक्षा की परीक्षा 15 अप्रैल 1 मई तक चलेगी। 12वीं कक्षा की परीक्षा 3 मई से शुरू होकर 24 मई तक चलेगी । ये दोनों ही परीक्षा ऑफलाइन मोड में होगी। यानी स्टूडेंट्स कों सेंटर्स में जाकर परीक्षा देनी होगी। इस साल कोविड के खतरे को देखते हुए यह किया गया है कि बच्चे जिस स्कूल में पढ़ते हैं, उन्हें वहीं परीक्षा देनी होगी। अलग सेंटर्स नहीं बनाए जा रहे।

प्रैक्टिकल एग्जाम को लेकर निर्देश
इस साल प्रैक्टिकल परीक्षाएं 10 फरवरी से शुरू हो जाएंगी परीक्षाओं में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा। स्कूलों को इस बात की आजादी होगी कि वो एक दिन में दो या तीन शिफ्ट में परीक्षा लें। प्रयोगिक परीक्षा को लेकर कहा गया है कि बच्चों की संख्या ज्यादा हो तो दो या तीन दिन में एक ही विषय की परीक्षा स्कूल ले सकेंगे। ताकि भीड़ ना जुटे। प्रायोगिक परीक्षाएं 10 मार्च से पहले पहले खत्म कर ली जाएंगी ।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here