फोटो हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा का है। प्रभावित इलाके में पक्षियों को दफनाया जा रहा है। पक्षियों की लगातार मौतों के बाद यहां पर्यटन गतिविधियों पर रोक लगा दी गई है।

देश पर कोरोनावायरस के बाद अब बर्ड फ्लू का खतरा मंडरा रहा है। हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश और केरल में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है। वहीं, राजस्थान और गुजरात में पक्षियों की मौत के बाद प्रशासन अलर्ट है। पिछले कुछ दिनों में हिमाचल में 1700 और MP में 300 से ज्यादा पक्षियों की मौत हुई है। वहीं, राजस्थान में 250 और गुजरात में 50 से ज्यादा पक्षियों की मौत हो चुकी है।

मध्यप्रदेश : इंदौर में 154 कौवों की मौत
इंदौर के डेली कॉलेज कैंपस में सोमवार को 6 कौवों की मौत हो गई। इसके साथ ही अब तक 154 कौवों की मौत हो चुकी है। बर्ड फ्लू की आशंका के चलते डेली कॉलेज के आसपास के इलाके में अलर्टनेस बढ़ा दी गई है। वहीं, इंदौर चिड़ियाघर को भी सर्विलांस पर रखा गया है। इससे पहले, मंदसौर में बीते तीन दिन में 170 और खरगोन में 15 कौओं की मौत हुई थी।

26 दिसंबर को 30 कौओं के सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजे गए थे। इनकी जांच में H-5N-8 एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस की पुष्टि हुई है। यह वर्ड फ्लू का एक टाइप तो है, लेकिन घातक नहीं है। इसका असर पक्षियों तक ही सीमित है, यह मनुष्य में नहीं फैलता है।

हिमाचल: चिकन-अंडों की बिक्री पर रोक
हिमाचल प्रदेश के पौंग बांध में 1700 विदेशी पक्षियों की मौत बर्ड फ्लू की वजह से हुई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, पक्षियों में बर्ड फ्लू EVN होने की संभावना ज्‍यादा जताई जा रही है। हालांकि, भोपाल से आने वाली रिपोर्ट के बाद ही पता चल पाएगा कि यह फ्लू का कौन सा प्रकार है। इस बीच कांगड़ा के इंदौरा, फतेहपुर, जवाली और देहरा में चिकन और अंडे की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। पौंग बांध से सटे हुए चारों कस्बों में दुकानें आगामी आदेश तक बंद रहेंगी।

केरल : प्रभावित इलाके के 1 किमी में पक्षियों को मारा जाएगा
केरल में बर्ड फ्लू के मामलों की पुष्टि होने के बाद हालात की निगरानी रखने के लिए कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। वन, पशुपालन और डेयरी विकास मंत्री के राजू ने बताया कि अलापुझा और कोट्टायम जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। हालांकि, इससे इंसानों के संक्रमित होने की कोई संभावना नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि जहां भी इस संक्रमण का पता चलेगा, वहां 1 किमी के दायरे में पक्षियों को मार दिया जाएगा।

राजस्थान में जयपुर समेत कई जिलों में 252 कौओं की मौत
राजस्थान में जयपुर समेत अलग-अलग जिलों में अब तक 252 कौओं की मौत हो चुकी है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, झालावाड़ में 100, कोटा में 47, बांरा में 72, पाली में 19, जोधपुर और जयपुर में 7-7 कौओं समेत 252 की मौत हुई। पशुपालन विभाग के डायरेक्टर डॉ. वीरेंद्र सिंह ने बताया कि 30 दिसंबर को ही सभी इलाकों में अलर्ट रहने के आदेश जारी कर दिए थे। हालात पर नजर बनाए रखने के लिए कंट्रोल रूम भी बनाए गए हैं।

गुजरात में भी 53 पक्षी मरे हुए मिले
गुजरात के जूनागढ़ के बांटवा गांव में 2 जनवरी को बतख-टिटहरी-बगुला समेत 53 पक्षियों की मौत हो गई थी। बर्ड फ्लू की आशंका के चलते इनके शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। रेंज फॉरेस्ट ऑफिसर ने मौत की वजह किसी गंभीर बीमारी की वजह से होने की आशंका जताई है। इसके बाद राज्य में अलर्ट घोषित कर दिया गया है।

झारखंड में भी अलर्ट
कुछ राज्यों में बर्ड फ्लू के मामले सामने आने के बाद झारखंड में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। हालांकि पशुपालन विभाग ने साफ किया है कि अभी राज्य में बर्ड फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here