भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन फील्ड अंपायर से उलझ गए। अंपायर के फैसले का विरोध करने का खामियाजा उन्हें जुर्माने के तौर पर भुगतना पड़ सकता है। दरअसल, नाथन लियोन की गेंद पर मैथ्यू वेड ने चेतेश्वर पुजारा का कैच लिया।

फील्ड अंपायर पॉल विल्सन ने नॉटआउट कहा। ऑस्ट्रेलिया ने DRS लिया। तीसरे अंपायर कुछ तय नहीं कर पाए। उन्होंने विल्सन पर मामला छोड़ दिया। विल्सन ने पुजारा के पक्ष में फैसला दिया। इससे पेन भड़क गए और अंपायर से बहस करने लगे।

तकनीक भी काम नहीं आई

लियोन की गेंद को पुजारा ने डिफेंस किया। बॉल उछली और शॉर्ट लेग पर खड़े मैथ्यू वेड ने कैच कर लिया। ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपील की। विल्सन ने इसे नकार दिया। इस पर विकेटकीपर और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान पेन ने DRS लिया। थर्ड अंपायर ब्रूस ऑक्सनफोर्ड स्निको मीटर और हॉट स्पॉट से यह तय नहीं कर पाए कि पुजारा आउट हैं या नहीं। उन्होंने मैदानी अंपायर विल्सन से आखिरी फैसला लेने को कहा। विल्सन अपने पुराने फैसले पर कायम रहे।

पेन का तर्क
इसके बाद पेन ने विल्सन से कहा- सिर्फ लेग साइड का हॉट स्पॉट ही क्यों देखा, ऑफ साइड का क्यों नहीं। इस पर विल्सन ने पेन को दो टूक जवाब दिया। कहा- फैसला तीसरे अंपायर का है। आप मुझसे कुछ नहीं कह सकते।

पेन पर लग सकता है जुर्माना

अंपायर से बहस करने और फैसले का विरोध करने वाले पेन पर अब ICC जुर्माना लगा सकता है। नियम 2.3 और 2.8 के तहत प्लेयर्स अंपायर के फैसले पर सवाल नहीं उठा सकते।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

शनिवार को सिडनी टेस्ट के तीसरे दिन चेतेश्वर पुजारा को नॉटआउट दिए जाने के बाद ऑस्ट्रेलियाई कप्तान और विकेटकीपर टिम पेन ने फील्ड अंपायर विल्सन से बहस की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here