Photo:@PIB_INDIA Union Budget 2021-22 Halwa Ceremony

 

नई दिल्ली। इस बार 1 फरवरी 2021 को पेश होने वाला केंद्रीय बजट 2021-22 पूरी तरह से डिजिटल होगा। वित्त मंत्रालय द्वारा शनिवार को नॉर्थ ब्लॉक में परंपरागत तरीके से हलवा सेरेमनी के साथ बजट दस्तावेजों के संकलन की प्रक्रिया शुरू हो गयी। एक अभूतपूर्व पहल के रूप में पहली बार आगामी केंद्रीय बजट 2021-22 (Union Budget 2021-22) पेपरलेस स्वरूप में वितरित किया जाएगा। यह पहली बार होगा जब बजट दस्तावेजों का प्रकाशन नहीं होगा।

वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘एक अभूतपूर्व पहल के तहत केंद्रीय बजट 2021-22 पहली बार डिजिटल तरीके से लोगों को मिलेगा। यूनियन बजट 1 फरवरी 2021 को पेश होने वाला है।’’ इस मौके पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यूनियन बजट मोबाइल ऐप (Union Budget Mobile App) लॉन्च किया, ताकि सांसद और आम लोग बिना किसी परेशानी के डिजिटल तरीके से बजट दस्तावेज पा सकें। 

Union Budget Mobile App इसलिए होगा खास

    1. बजट से जुड़ी पूरी जानकारी Union Budget Mobile App पर उपलब्ध होगी। यूनियन बजट मोबाइल ऐप में केंद्रीय बजट के 14 दस्तावेज पूरी जानकारी के साथ होंगे। इसमें वार्षिक वित्तीय विवरण (जिसे आम तौर पर बजट के रूप में जाना जाता है), डिमांड फॉर ग्रांट (डीजी), वित्त विधेयक आदि की जानकारी होगी।

 

    1. ऐप में डाउनलोडिंग, प्रिंटिंग, सर्च, जूम इन और आउट, इनडायरेक्शनल स्क्रॉलिंग, कंटेंट की टेबल और एक्सटर्नल लिंक आदि के एम्बेडेड फीचर्स के साथ यूजर फ्रेंडली इंटरफेस है। यह ऐप द्विभाषी (अंग्रेजी और हिंदी) है और यह एंड्रॉइड और आईओएस दोनों प्लेटफार्मों पर उपलब्ध होगा।

 

    1. ऐप को यूनियन बजट वेब पोर्ट www.indiabudget.gov.in से भी डाउनलोड किया जा सकता है। ऐप को आर्थिक मामलों के विभाग (डीईए) के मार्गदर्शन में राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) द्वारा विकसित किया गया है।

 

    1. यूनियन बजट मोबाइल ऐप की मदद से सांसद और आम जनता बजट के दस्तावेजों को ऑनलाइन एक्सेस कर सकती है। सबसे खास बात ये है कि ये ऐप हिंदी और इंग्लिश दोनों में भाषाओं उपलब्ध होगा। इसके साथ ही इस ऐप पर बजट की जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया काफी आसान और तेज होगी।

 

इसलिए 10 दिनों तक कैद रहते है बजट में शामिल अधिकारी

जैसा कि बजट बनाने की प्रक्रिया में शामिल सभी लोग हलवा सेरेमनी के बाद बजट से 10 दिनों तक नार्थ ब्लाक के बेसमेंट में रहते हैं। समाचार एजेंसी एएनाई के अनुसार जबतक बजट संसद में पेश नहीं हो जाता उन्हें बाहर की दुनिया से अलग रखा जाता है। ऐसा इसलिए होता है ताकि बजट की गोपनीयता बनी रहे। हलवा सेरेमनी में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर, वित्त सचिव अजय भूषण पांडेय, आर्थिक मामलों के सचिव तरुण बजाज, वित्तीय सेवा सचिव देबाशीष पांडा, दीपम के सचिव तुहिन कांत पांडे, व्यय सचिव टीवी सोमनाथन, मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यन और बजट की तैयारी व संकलन की प्रक्रिया में शामिल अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

दो भागों में बांटा गया बजट सत्र 

एक फरवरी 2021 को संसद में वित्त मंत्री द्वारा बजट भाषण पूरा होने के बाद बजट दस्तावेज मोबाइल ऐप पर उपलब्ध होंगे। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के मुताबिक, इस बार का बजट सत्र दो अलग-अलग हिस्सों में बांटा गया है। पहला सत्र 29 जनवरी से 15 फरवरी तक चलेगा जबकि दूसरा सत्र 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा। सभी सांसदों को कोरोना टेस्ट करवाना अनिवार्य रहेगा। जाहिर है वित्त वर्ष 2021-22 (फाइनेंशियल ईयर 2021-22) के लिए भारत की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 1 फरवरी 2021 को सरकार के वार्षिक फेडरल बजट का अनावरण करेंगी जो 1 अप्रैल 2021 से प्रभावी होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here