पहली बार किसी ट्रेन को पूरी तरह महिला क्रू ने ऑपरेट किया। इस मौके पर मालगाड़ी की तीनों क्रू मेंबर्स का सम्मान किया गया।

भारतीय रेलवे की महिला कर्मचारियों ने मंगलवार को एक और कामयाबी हासिल की। महाराष्ट्र के पालघर से गुजरात के वडोदरा के बीच चली मालगाड़ी को पूरी तरह महिला क्रू ने ऑपरेट किया। इनमें लोको पायलट कुमकुम एस डोंगरे (34), असिस्टेंट लोको पायलट उदिता वर्मा (28) और गुड्स गार्ड अनुष्का रे (29) शामिल हैं।

मंगलवार को पालघर से वडोदरा तक चली मालगाड़ी में गार्ड की ड्यूटी करतीं अनुष्का रे।

मंगलवार को पालघर से वडोदरा तक चली मालगाड़ी में गार्ड की ड्यूटी करतीं अनुष्का रे।

43 क्लोज वैगन में करीब 3 हजार 686 टन कार्गो से लदी यह मालगाड़ी वसई रोड से सुबह साढ़े 11 बजे चलकर 6 घंटे में वडोदरा पहुंची। महिला क्रू ने मालगाड़ी को करीब 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ाया।

रेलवे अधिकारी बोले- यह गेम चेंजर
पश्चिम रेलवे के चीफ स्पोक्सपर्सन सुमित ठाकुर ने बताया, ‘यह पहली बार था जब पूरी तरह महिला क्रू ने गुड्स ट्रेन को ऑपरेट किया है। लोको पायलट और गुड्स गार्ड के काम में लंबी दूरी का सफर तय करना होता है। चुनौती को देखते हुए बहुत कम महिलाएं ही इस काम के लिए आगे आती हैं।’

ठाकुर ने कहा, ‘यह गेम चेंजर उपलब्धि है। इससे दूसरी महिलाओं को प्रेरणा मिलेगी। अब महिलाएं रेलवे के हर डिपार्टमेंट में काम कर रही हैं। कई महिलाएं हैवी ड्यूटी वाले वे काम भी कर रही हैं, जो अब तक पुरुषों के लिए ही माने जाते थे।’

प्रीति कुमारी बनी थीं पहली मोटरमैन
कुछ साल पहले प्रीति कुमारी पश्चिम रेलवे की मुंबई लोकल ट्रेन की मोटरमैन (ड्राइवर) बनी थीं। भावनगर डिवीजन के कई स्टेशनों पर महिला कुली भी काम करती हैं। पश्चिम रेलवे के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि रेलवे की महिला कर्मचारियों ने साबित कर दिया है कि अब कोई भी काम उनके लिए नामुमकिन नहीं है। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने इस काम के लिए तीनों महिलाओं की जमकर तारीफ की। वहीं, उनका सम्मान भी किया गया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here