भारतीय सेना उत्तरी कश्मीर में गरीब बच्चों के लिए ट्यूशन क्लासेस की इंतजाम करने में जुटी है। सेना ने बारामूला में गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले गरीब परिवार के बच्चों के लिए सरकारी स्कूल में पढ़ाई की व्यवस्था की है। ये ट्यूशन क्लासेस सोपोर के टारजू इलाके के गवर्नमेंट मिडिल स्कूल में लगाई जा रही हैं।

दरअसल, लॉकडाउन की वजह से बच्चों की पढ़ाई का काफी नुकसान हुआ है। बोर्ड एग्जाम की तैयारियों को देखते हुए इसी नुकसान की भरपाई के लिए सेना यह जिम्मा उठाया है।

50 बच्चे इस ट्यूशन क्लास का हिस्सा
आसपास के गांवों के करीब 50 बच्चे इस ट्यूशन क्लास में हिस्सा ले रहे हैं। इनमें 30 लड़के और 20 लड़कियां शामिल हैं। यहां हिस्सा ले रहे स्टूडेंट नेलोफर राशिद ने बताया कि हम इंडियन आर्मी के शुक्रगुजार हैं, जिन्होंने हमें फ्री में पढ़ाने के बारे में सोचा।

5 लोकल टीचर्स पढ़ाने आ रहे
सेना की ओर से लगाई जा रही ट्यूशन क्लासेस में 5 लोकल टीचर्स को बुलाया जा रहा है। इसमें इंग्लिश, सोशल साइंस, मैथमैटिक्स, साइंस और उर्दू के सब्जेक्ट पढ़ाए जा रहे हैं। यहां पढ़ाने आ रहे एक टीचर हिलाल अहमद ने बताया कि मैं यहां उर्दू पढ़ाता हूं। बच्चों को फ्री पढ़ाने से हमारे लिए भी रोजगार के रास्ते खुले हैं।

कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया जा रहा
दो महीने की ट्यूशन क्लासेस के दौरान हर 15 दिन में टेस्ट लिए जाएंगे। इसके बाद ट्यूशन क्लासेस खत्म होने से पहले फाइनल टेस्ट होगा। स्टूडेंट्स के लिए फ्री स्टेशनरी आइटम भी मुहैया कराए जा रहे हैं। इस दौरान कोरोना के सभी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जा रहा है।

आवाम और जवान के बीच रिश्ते मजबूत करने की कवायद
अपलोना राष्ट्रीय राइफल बटालियन के निंगली आर्मी कैम्प की ओर से यह पहल की गई है। इसका उद्देश्य गरीब बच्चों को फ्री शिक्षा देने के साथ आवाम और जवान के बीच रिश्ते मजबूत करना भी है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


लॉकडाउन की वजह से बच्चों की पढ़ाई में हुए नुकसान की भरपाई के लिए सेना ने गरीब बच्चों को फ्री ट्यूशन देने का फैसला किया। (फाइल फोटो)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here