अमेरिकी कंपनी फाइजर की कोरोना वैक्सीन का पांच लोगों में गंभीर साइड इफेक्ट देखने को मिले हैं। फिनलैंड की मेडिसिन एजेंसी को यह शिकायत मिली है। दो दिन पहले ही फाइजर को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने पूरी दुनिया में इमरजेंसी यूज के लिए अप्रूव किया था।

फिनिश YLE ब्रॉडकास्टर की खबर के मुताबिक, 27 दिसंबर से यूरोपीय देशों में मास वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरूआत हुई थी। यूरोप ने फाइजर को इमरजेंसी यूज के लिए मंजूरी दे दी थी। फिनलैंड की चीफ फिजिशियन मैया कौकोनें ने बताया कि अब तक पांच लोगों ने साइड इफेक्ट की शिकायत की है। इनकी डिटेल्स कॉन्फिडेंशियल है, इसलिए सार्वजनिक नहीं की जा सकती। हालांकि, जल्द ही हम रिएक्शन के बारे में जानकारी अपनी वेबसाइट पर अपलोड कर देंगे। उन्होंने बताया कि रिएक्शन के मामले अभी और भी बढ़ सकते हैं।

दुनिया में अब तक 8.44 करोड़ मरीज

दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 8.44 करोड़ के ज्यादा हो गया। 5 करोड़ 97 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 18 लाख 37 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं। ब्रिटेन में हेल्थ अफसरों के सामने नए परेशानी आ गई है। देश में मरीजों की संख्या इतनी तेजी से बढ़ रही है कि अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे हैं। शुक्रवार को यहां 28 हजार से ज्यादा संक्रमित देश के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हुए।

ब्रिटेन में हालात मुश्किल
‘CNN’ से बातचीत में ब्रिटिश हेल्थ डिपार्टमेंट के एक अफसर ने कहा- हमारे सामने बहुत मुश्किल हालात पैदा हो रहे हैं। देश के हर हिस्से में संक्रमितों की तादाद तेजी से बढ़ रही है। इनमें से कुछ मरीज ऐसे हैं जिनमें नया स्ट्रेन पाया गया है। हेल्थ फेसेलिटीज और यहां के स्टाफ पर इसका गंभीर असर हो रहा है। ऐसे में हम लोगों से बस यही अपील करेंगे कि वो सरकार और हेल्थ डिपार्टमेंट की गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन करें। अगर अब भी ऐसा नहीं हुआ तो हालात काबू से बाहर होने में देर नहीं लगेगी। हम ही जानते हैं कि हमारा स्टाफ कितनी मेहनत से काम कर रहा है। नागरिकों का फर्ज है कि वे इस मुश्किल घड़ी में हमारा साथ दे क्योंकि हम उनकी जिंदगी बचाने के लिए ही काम कर रहे हैं। वे कम से कम ऐहतियात तो बरत ही सकते हैं। आने वाले दो महीने बेहद अहम होंगे।

ब्रिटेन के अस्पतालों में शुक्रवार को 28 हजार से ज्यादा संक्रमित भर्ती हुए। अप्रैल के बाद यह एक दिन में अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। (फाइल)

नया स्ट्रेन अमेरिका में कॉमन नहीं
अमेरिका की एक टेस्टिंग कंपनी ने कहा है कि नया स्ट्रेन अमेरिका में अब तक कॉमन नहीं है और इससे घबराने की जरूरत नहीं है। हेलिक्स नाम की कंपनी ने एक बयान में कहा- 31 में से सिर्फ चार सैम्पल्स हमें ऐसे मिले जिनमें नए स्ट्रेन की शंका है। हम ये जानते हैं कि ये अब तक 30 से ज्यादा देशों में पाया जा चुका है। अमेरिका के तीन राज्यों कोलारेडो, कैलिफोर्निया और फ्लोरिडा में भी इसके मरीज मिले हैं। लेकिन, हम इस पर काबू कर सकते हैं।

ब्रिटेन में स्कूल बंद
ब्रिटेन में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसको देखते हुए ब्रिटिश सरकार ने अगले दो हफ्तों के लिए लंदन के सभी प्राइमरी स्कूल को बंद रखने का फैसला लिया है। यहां कोरोना के नए स्ट्रेन ने मरीजों की संख्या में तेजी लाई है। शिक्षा मंत्री गेविन विलियम्सन ने कहा कि सेकेंडरी स्कूल को भी फिर से खोलने का फैसला अभी रोक लिया गया है। पिछले 24 घंटे के अंदर ब्रिटेन में 53 हजार से ज्यादा नए कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। 630 लोगों की मौत हो गई। अब तक यहां 25 लाख 42 हजार 65 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 74 हजार 125 मरीजों की मौत भी हो चुकी है।

कोरोना प्रभावित टॉप-10 देशों में हालात

देश

संक्रमित मौतें ठीक हुए
अमेरिका 20,617,346 356,445 12,175,841
भारत 10,303,409 149,205 9,901,929
ब्राजील 7,700,578 195,441 6,756,284
रूस 3,186,336 57,555 2,580,138
फ्रांस 2,639,773 64,765 194,221
यूके 2,488,780 73,512 N/A
तुर्की 2,208,652 20,881 2,100,650
इटली 2,107,166 74,159 1,463,111
स्पेन 1,921,115 50,689 N/A
जर्मनी 1,735,819 33,917 1,328,200

(आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं)

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


दो दिन पहले ही फाइजर को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने पूरी दुनिया में इमरजेंसी यूज के लिए अप्रूव किया था। -सिम्बॉलिक इमेज

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here